इकाई सेल – सरल घनीय, फलक केन्द्रित घनीय संरचना

Rate this post

हेलो दोस्तों मेरा नाम आकाश, और आप देख रहे है akashlectureonline.com दोस्तों इस पोस्ट में कक्षा 12 की रसायन शास्त्र का अध्याय 1 के बेहतरीन नोट्स है (Unit Cell Chemistry Class 12)  जिनको आप पढकर अपनी क्लास में टॉप कर सकते है आपको यहा हर सब्जेक्ट के नोट्स मिलेंगे तो आप इस पोस्ट को LIKE करे,  SHARE करे , और अगर आप को कोई भी समस्या है तो कमेंट करकर हमारे साथ जरूर शेयर करे |

धन्यबाद !!!.

इकाई सेल

  • क्रिस्टल के बिन्दुओं का सूक्ष्मतम त्रिविमीय समूह इकाई सेल कहलाता है तथा इसे a, b तथा c दूरियों तथा α, B तथा γ कोणों द्वारा दर्शाया जाता है।
  • इकाई सेल को त्रिविम में क्रम से व्यवस्थित कर एक पूर्ण क्रिस्टल को प्राप्त किया जा सकता है।

सरल घन में केवल एक परमाणु, काय केन्द्रित घन में 2-परमाणु तथा फलक केन्द्रित घन में चार परमाणु होते हैं। बिन्दुओं का क्रम जो यह दर्शाता है कि कैसे अणुओं, परमाणुओं तथा आयनों को त्रिविम में विभिन्न स्थानों पर इकाई  व्यवस्थित किया गया है, त्रिविम जालक कहलाता है।

विभिन्न इकाई सेल में तीन प्रकार के जालक विन्दु होते हैं ।

(a) कोनों पर स्थित बिन्दु

(b) फलक केन्द्र पर स्थित विन्दु तथा

(c) वह बिन्दु जो पूर्ण रुप से सेल के अन्दर है। क्रिस्टल में वह परमाणु जो कि कोनों पर तथा फलक केन्द्रों पर है अन्य सेलों द्वारा भी साझित किए जाते है, एवं इस परमाणु का एक भाग वास्तव में इकाई सेल के अंदर रहता है।

(i) इकाई सेल के कोनें पर स्थित परमाणु 8 इकाई सेलो द्वारा साझित किए जाते है अतः प्रत्येक इकाई सेलों का ऐसा विन्दु 1/8 का योगदान देता है।

(ii) कोरों पर स्थित बिन्दु 4 इकाई सेलों द्वारा साझित किए जाते है अतः ऐसा विन्दु इकाई सेलों के लिए 1/4 का सहयोग देता है।

(iii) एक फलक केन्द्रीय बिन्दु 2 इकाई सेलों द्वारा साझित किए जाते है। अतः यह इकाई सेलो के लिए 1/2 का योग देता है।

(iv) काय केन्द्रित बिन्दु पूर्ण रूप से इकाई सेलों के अन्दर होता है । अतः यह सेल के प्रत्येक बिन्दु के लिए सहयोग देता है।

 

(a) सरल घनीय संरचना (scc):

प्रत्येक कोने का परमाणु आठ घिरे हुए घनो द्वारा सहभाजित रहता है। इसलिए यह परमाणु 1/8 भाग के लिए सहभाजित होता है।

(b) फलक केन्द्रित घनीय संरचना (fcc):

https://akashlectureonline.com/chemistry-class-12-chapter-1-solid-state-hindi-medium/

(ii) केन्द्र का परमाणु एक परमाणु प्रति इकाई सेल में हिस्सा देता है।

(iii) अतः कुल परमाणु 1+1= 2 परमाणु प्रति इकाई सेल

ठोसों में दोष | रससमीकरणमितीय दोष | शॉट्की दोष | फ्रेन्कल दोष

इकाई सेल में परमाणुओं की संख्या

इसे निम्न सरलतम सम्बन्ध द्वारा निर्धारित किया जा सकता है

जहाँ

 nc  घन के कोनों पर परमाणुओं की संख्या

nf घन के छ: फलकों पर परमाणुओं की संख्या

ni घन के अन्दर परमाणुओं की संख्या

अध्याय 1 ठोस अवस्था  Unit 1 Solid State 

ठोस अवस्था,  ठोसो के प्रकार, विशेषताएँ

सम दैशिकता व विषम दैशिकता किसे कहते है?

इकाई सेल – सरल घनीय, फलक केन्द्रित घनीय संरचना

ठोसों में दोष | रससमीकरणमितीय दोष | शॉट्की दोष | फ्रेन्कल दोष

ठोसों के विद्युतीय गुण | P-N प्रकार के अर्धचालक, चालक, कुचालक

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका अपने पेज www.akashlectureonline.com पर दोस्तों , हमारे पेज पर आपको पढाई से संबंधित ब्लॉग मिलेगे , हम आशा करते है, कि आपको यह पोस्ट बेहद पसंद आई होगी | अगर आप चाहे तो इसके वीडियो लेक्चर भी आप देख सकते है जिसमे आपको अच्छी तरह से समझाया जायेगा | (Unit Cell Chemistry Class 12)  आप हमारे YOUTUBE चैनल akash lecture online पर जाकर वीडियो को देख सकते है इस चैनल पर आपको इस पोस्ट से संबंधित सभी वीडियो मिल जायेंगे |

हमारा उद्देश है आप सभी को अच्छी शिक्षा देना है | वीडियो देखने के बाद भी अगर आपके मन में कोई doubt है तो आप कमेंट में अपना डाउट लिखकर हमारे साथ शेयर कर सकते है , हम आपकी समस्या का जरुर हल निकालेंगे |

धन्यबाद !!!

Hello! My name is Akash Sahu. My website provides valuable information for both Hindi and English medium students who are seeking knowledge. I have completed my graduation in Pharmacy and have been teaching for over 5 years now.

Sharing Is Caring: