CLASS 11

Download notes in pdf form of class 11. You can watch video lecture at no cost. You can easily score with the help of notes and video lecture

TAXONOMY | Species | Genus | Kingdom | Family | Order,

TAXONOMY (Taxa – = arrangement, -nomos= law) The process of classification into different taxa is called taxonomy. Term taxonomy was first introduced by A.P. de Candolle (Swiss Botanist). Modern taxonomy takes an account of the internal and external structures along with the structure of cell, development process & ecological information of organisms. Characterization, Identification, Classification …

TAXONOMY | Species | Genus | Kingdom | Family | Order, Read More »

DIVERSITY IN THE LIVING WORLD | Need of classification

THE LIVING WORLD Biology (Bio- = life, -logy = study of) is the science of life forms and living processes. Aristotle is a father of biology Planet earth is made up of abiotic and biotic components. The biotic components are the living beings present around us. The abiotic components These includes the climate, temperature soil, …

DIVERSITY IN THE LIVING WORLD | Need of classification Read More »

मानव जनन | पुरुष जनन तंत्र | वृषण |

मानव जनन | पुरुष जनन तंत्र | वृषण | स्त्री जनन तंत्र | गर्भाशय

मानव जनन परिचय जनन एक ऐसी क्रिया है जिसमें जीवित प्राणी स्वयं के समान जीवों को उत्पन्न करता है और जनन तंत्र अंगों का ऐसा तंत्र है जो इस विधि में भाग लेता है। मानव लेंगिक रूप से जनन करने वाला और सजीवप्रजक या जरायुज प्राणी है। लैंगिक जनन में जनन की गति धीमी होती …

मानव जनन | पुरुष जनन तंत्र | वृषण | स्त्री जनन तंत्र | गर्भाशय Read More »

परागण के प्रकार

परागण | परागण के प्रकार | POLLINATION | परपरागण

परागण (POLLINATION) परागकणों का एक पुष्प के परागकोष से एक ही जाति के एक ही पुष्प या अलग-अलग पुष्पों के वतिकांग्र पर पहुंचने की क्रिया को परागण कहते हैं। परागण की क्रिया केवल जिम्नोस्पर्मस और आवृतबीजियों में घटित होती है। परागण के प्रकार– परागण दो प्रकार का होता है – स्वपरागण या परपरागण स्वपरागण या …

परागण | परागण के प्रकार | POLLINATION | परपरागण Read More »

पादप वृद्धि एवं परिवर्धन | पादप वृद्धि की प्रावस्थायें | padap brahdi

पादप वृद्धि एवं परिवर्धन    वृद्धि सभी जीवधारियों का लाक्षणिक विशेषताएं है |  वृद्धि एक जैविक प्रक्रिया है, जो कि किसी पादप तथा उसके भागों में स्थायी व एक दिशीय परिवर्तन लाता है। वृद्धि सफल उपापचय का अंतिम उत्पाद है, अर्थात्‌ वृद्धि के उपरांत उपचयी क्रियाएं, अपचयी क्रियाओं से अधिक प्रभावी होती हें। पादप में …

पादप वृद्धि एवं परिवर्धन | पादप वृद्धि की प्रावस्थायें | padap brahdi Read More »

error: Content is protected !!